सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एक ऐसा गांव जहां हर 12वें दिन होती है एक आदमी मौत



टाइम्स ऑफ़ कुशीनगर ब्यूरो 
कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक ऐसा गांव है, जहां गत नौ महीने से औसतन हर 12 वें दिन एक व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है। इन मौतों को कारण कालाजार बताया जा रहा है। 

कालाजार जैसी घातक बीमारी से त्रस्त इस गांव पर विभाग के सारे प्रयास विफल साबित हो रहे है। आज स्थिति ऐसी है कि  270 दिनों लोग 24 लोगों की मौत हो चूकी है।  

कुशीनगर के दुदही विकास खंड में स्थित रकबा दुलमा पट्टी के नाम से प्रसिद्ध यह गांव आज तक कालाजार जैसे घातक बीमारी को लेकर त्राहि-त्राहि कर रहा है। मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है । इसे रोकने में विभाग के सारे प्रयास विफल साबित हो रहे हैं। नौ माह में करीब चैबीस मौतें हो गईं, वहीं आज भी पांच पीड़ित दवा के लिए सीएचसी का चक्कर काट रहे हैं।

ज्ञातव्य हो कि गांव के टोला रकबा बीते साल जुलाई माह में कालाजार के चपेट में आया। करीब डेढ़ दर्जन पीड़ित होकर काल के गाल में समां गए। स्वास्थ्य विभाग अपनी कमी को छुपाने के लिए लगातार प्रयास करता रहा, उसके साथ यहां मौतों का सिलसिला भी जारी रहा। बर्ष 2013 में मरने वालों में मीरा उम्र 12, मैमुल नेशा उम्र 55, रईस उम्र 30, सोनिया उम्र 25, अनुराग उम्र 27, सीमा उम्र 10, रमाकांत उम्र 35, श्रीकिशुन उम्र 60, गुड़िया उम्र 10, आंचल उम्र 7, जिततू उम्र 18, लक्ष्मी उम्र 6, लक्ष्मण उम्र 1व अजमेरी उम्र 40, सालिक उम्र 12 रहे। इसी तरह वर्ष 2014 में पांच व्यक्ति काल के गाल में समा चुके हैं।

जिसको लेकर गांव के सदस्यों ने तहसील दिवस में शिकायती पत्र दी। उसके बाद जब खून के नमूने लिए गए तो सभी पीड़ित पाजिटिव पाए गए। डीएम ने गांव में कैंप लगवाकर पीड़ितों की जांच कराई। जिसमें करीब दो दर्जन पीड़ित पाए गए। कालाजार से प्रदेश मुक्त होने की घोषणा होने के बाद इतनी मौतों की जांच के लिए अपर निदेशक उत्तर प्रदेश एचएस सक्सेना के साथ छह सदस्यीय टीम ने गांव का दौरा कर बीमारी की जांच-पड़ताल की तथा ध्वस्त हुई सफाई व्यवस्था को दुरुस्त करने का निर्देश दिया।

क्षेत्रीय विधायक अजय कुमार लल्लू के पहल पर भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के डा. वीके चैधरी के नेतृत्व में तीन सदस्यीय टीम ने दौरा किया और गांव की वर्तमान स्थिति और मृतकों की सूची सहित इलाज व दवाओं का ब्योरा ले गई। मगर उसके बाद भी स्थिति आज भी वही है। यहां के निवासी, लालती, जियन, पप्पू, वीरेंद्र आदि इस बीमारी के चपेट में है। उन्हे चिन्ता सताये जा रही है कि कही ऐसा न हो जाये कि सभी काल के गाल में समा जाये। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुशीनगर में बीपीएल लाभार्थियों की संख्या 1.64 लाख

महामाया के अतिरिक्त लाभार्थियों की संख्या 1,09,259 कुशीनगर । उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में अतिरिक्त बीपीएल योजना के लाभार्थियों की संख्या 1,64,829 हो गयी है। जिसमें महामाया योजना के कुल 55,570 लाभार्थी शामिल हैं। महामाया के अतिरिक्त 1,09,259 लाभार्थियों का चयन 5,000 रुपये मासिक आय और कुछ अन्य मानकों के आधार पर किया गया है।
शासनादेश के अनुसार विकलांग, विधवा तथा भूमिहीनों को महामाया योजना के अंतर्गत चयनित कर लिया गया है। सभी 55,570 लाभार्थियों की सूची समाज कल्याण विभाग में भी उपलब्ध है। इन लाभार्थियों को अतिरिक्त बीपीएल योजना में भी सम्मिलित कर लिया गया है। इस तरह लाभार्थियों की संख्या बढ़कर 1,64,829 हो गई है।
इन सभी लाभार्थियों को दिसंबर से बीपीएल दर पर 35 किलोग्राम राशन, जिसमें 15 किलोग्राम गेहूं तथा 20 किलोग्राम चावल उपलब्ध कराया जाएगा। दिसंबर में प्रति लाभार्थी 15 किलोग्राम गेहूं तथा चावल उपलब्धता के आधार पर मुहैया कराया जाएगा।
इस योजना के तहत दुदही क्षेत्र में 11,696, सेवरही में 13,176, तमकुहीराज में 13,965, खड्डा में 8,870, नेबुआ नौरंगिया में 9,297, विशुनपुरा में 9,260, पडरौना …

कुशीनगर में देह व्यापार का धन्धा जोरों पर, यहीं से भेजी जाती है बाहर लड़कियां

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश का कुशीनगर जो भगवान बुद्ध की परिनिवार्ण स्थली के रूप में विख्यात है और शान्ति के लिए लोग यहां आते है। ऐसे कुशीनगर में देह व्यापार का धन्धा जोड़ पकड़ लिया है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है। पुलिस ने एक युवती को इस मामले में लिप्त होने की दशा में गिरफ्तार किया है।

जीवन का इतिहास और भूगोल बदलने वाले इस धन्धों को व्यूटी पार्लरों के माध्यम से चलाया जारहा है। कुशीनगर के एक व्यूटी पार्लर के माध्यम से सैकड़ों लड़कियों के जीवन का इतिहास बदल दिया गया। अभी यह धन्धा पल फुल रहा है।
जब एक युवती  को गोरखपुर पुलिस ने पकड़ा तो मामला प्रकाश में आया। कुशीनगर से लड़कियों को गुमराह कर देह व्यापार में झोकने वाली यह लड़की इस धन्धे का संचालन एक व्यूटी पार्लर से करती थी।

ज्योति नाम की यह लड़की पैसे की खातिर भोली-भाली लड़कियों को जाल में फंसा उनका एसएमएस बना शारीरिक शोषण कराती। इतना ही नहीं चंगुल में फंसे युवकों को पुलिस का भय दिखा मोटी रकम तक वसूलती रही। यही कारण है कि एक बार फंसा व्यक्ति या लड़की इसे डेंजर बेबी के नाम से जानते या पहचानते हैं। अपनी मासूमियत से इसने बड़े-बड़ों को अपना सं…

कुशीनगर मे सब इंस्पेक्टर सहित पांच पुलिकर्मी लाईन हाजिर

टाइम्स ऑफ़ कुशीनगर ब्यूरो
कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के कुशीनगर मे स्लाटर हाऊस चलाने के मामले मे पुलिस प्रशासन ने सख्त कार्यवाही करते हुए एक सब इंस्पेक्टर सहित पांच सिपाहियों को लाईन हाजिर कर दिया।

आरोप है कि पुलिस चौकी की मिली भगत से पडरौना कोतवाली के बसहिया गांव  में अवैध रूप से स्लाटर हाउस संचालित होता था। हालाकि इस चौकी पर अभी नये स्टाफ की तैनाती नहीं हो सकी है।

मिली जानकारी के अनुसार रविवार को कुशीनगर पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद सिधुआं पुलिस चौकी पहुचे और निरीक्षण किया तथा वहां तैनात पुलिस कर्मियों से पुछताछ किया उसके बाद पता चला की बसहिया में अवैध रूप से स्लाटर हाउस संचालित हो रहा था ।

इधर चौकी पुलिस को जानकारी होने के बाद भी इसकी सूचना उपर के अधिकारियों को नहीं दी गयी थी और पुलिस की पुरी मिली भगत से यह अवैध कारोबार चल रहा था।

इस के  बाद एस पी ने कड़े तेवर अपनाते हुए सिधुआं पुलिस चौकी के सब स्पेक्टर सहित पांच सिपाहियों को लाइन हाजिर कर दिया है
जिसमे चौकी प्रभारी ब्रजेश मिश्र, कांस्टेबल ओमप्रकाश चर्तुर्वेदी, विकास मिश्र, हरिश्चन्द्र , कपिन्द्र को लाइन हाजिर कर दिया है। अभी उक्त चौकी प…